कमलनाथ का पुतला जला अपनी नाकामियों को छिपाने का प्रयास कर रही भाजपा: सुफियान

  • लगातार नाकामियो को झेल रही केन्द्र एवं प्रदेश की भाजपा सरकार:आज़ाद
  • 30 जून को कांग्रेस करेगी धरना-प्रदर्शन

शहडोल(सादिक खान)।भारतीय जनता पार्टी अपने पापो पर पर्दा डालने के लिए तरह तरह के हथकंडे अपनाने से बाज नही आरही है।आज पूरा देश कोरोना संक्रमण जैसी महामारी से जूझ रहा है दूसरी ओर चीन के बार्डर में देश के जवानों को देश की रक्षा में शहादत देनी पड़ी पूरा देश की जनता डीजल और पेट्रोल के बढे हुऐ दामो से परेशान है वही भारतीय जनता पार्टी के नेता राजीव गांधी फाउंडेशन के नाम पर राजनीति पर उतारू है।वर्तमान में देश को विपरीत परिस्थितीयो का सामाना करना पड़ रहा है। देश की अर्थव्यवस्था तहस-नहस हो चुकी है भाजपा विपक्ष के नेता कमलनाथ जी का पुतला जला अपनी नाकामियों को छिपाने का प्रयास कर रही है। सत्ता पक्ष में होते हुये विपक्ष के नेता का पुतला जलाना इस ओर ईशारा करता है कि भाजपा सत्ता संभालने में नाकाम साबित हो चुकी है। इस लिए विपक्ष के नेता का पुतला जलाकर प्रदेश की जनता को दिगभ्रमित करने का प्रयास किया जा रहा है। भारतीय जनता पार्टी हमेशा मिठा हप-कडवा थू के सिद्धांत पर चलने की आदी रही है।

उक्ताशय की बात ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के कार्यवाहक अध्यक्ष एवं असंगठित कामगार कांग्रेस के प्रदेश सचिव सुफियान खान पार्षद वार्ड नंबर 03 के द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में कही है। सुफियान ने आगे कहा कि केन्द्र एवं प्रदेश की भाजपा सरकार जितनी ताकत गांधी परिवार एवं श्री कमलनाथ जी को कोसने एवं पुतला जलाने वा खामिया निकालने में लगा रही है यदि वही ताकत चीन एवं पाकिस्तान से निपटने में लगा ले तो हमारे देश का भला हो जाता।नाकामियो को झेल रही केन्द्र एवं प्रदेश की भाजपा सरकार कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेताओं पर आरोप लगाकर अपने दुष्कर्मो को छिपाने का अनवरत प्रयास कर रही है। सुफियान ने कहा कि मध्यप्रदेश में शिवराजसिंह चैहान एवं उनके शीर्ष केन्द्रीय नेताओं के मिली भगत से श्री कमलनाथ की चुनी हुई सरकार को गिराने जैसे महापाप करने के चार महिने बाद भी प्रदेश के मुख्यमंत्री अपना मंत्री मंडल नही बना पा रहे है। ऐसा प्रतीत होता है शिवराजसिंह ने पार्टी से अपना विश्वास खो दिया हो।साथ ही यह भी कहा कि बीजेपी नेताओं को कमलनाथ जी या कांग्रेस पर आरोप लगाने से पहले देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति सी जिम्पिंग के झूले वाले गठबंधन पर भी नजर डालनी चाहिए। बडी बडी बात करने वाली भारतीय जनता पार्टी की केन्द्र तथा राज्य की सरकारो का जनता से सरोकार खत्म जैसा हो चुका है लगातार महिने से ज्यादा लाॅकडाउन लगे हो गया जिसके कारण लोगो के रोजगार छिन चुके है आर्थिक स्थिती बद से बदतर हो चुकी है। देश की आम जनता को राहत देने की बजाय केन्द्र सरकार लगातार दिनों से डीजल और पेट्रोल के दामो पर इजाफा करती जा रही है डीजल के दाम लगभग81 रू. प्रति लीटर वही पेट्रोल के दाम लगभग 90 रू. तक पंहुच चुके है। वर्तमान प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी कांग्रेस के शासनकाल में डीजल और पेट्रोल के दामो को लेकर घडियालू आंसू बहाया करते थे और भाजपा नेता और कार्यकर्ता द्वारा सड़को पर निःवस्त्र होकर प्रदर्शन को अंजाम दिया जाता था।आज जब डीजल और पेट्रोल के दाम सेकड़ा छुने को आमादा है भाजपा के पूरे नेता खामोश है डीजल और पेट्रोल के बढे हुये दामो के सवाल पर कहने लगे है कि पेट्रोलियम पदार्थो के दामो का निर्धारण हमारे हाथो में नही है।सुफियान ने आगे कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा अदूर्दर्षिता पूर्ण लिए गये लाॅकडाउन के निर्णय के कारण देश भर के मजदूरो को अपने गनंतव्य स्थान पर पंहुचने में जो अव्यवस्थाये हुई जिसमें लाखो लाख मजदूरो को पैदल चलकर अपने घर पंहुचने मजबूर हुए, उनमे से पैदल जल रहे सैकडो कामगारो ने रास्ते पर ही दम तोड दिया, इस तरह की दुर्दशा इतिहास में बिरले ही सुनने और देखने को मिलती है। जब कभी भी देश का इतिहास लिखा जायेगा उस समय लाॅकडाउन में मजदूरो की हुई दुर्दशा को निश्चित ही याद किया जायेगा।