बड़ी कार्यवाही:-लाखों के मसरुके के साथ गांजा के तस्कर चढ़े पुलिस के हत्थे,पुलिस अधीक्षक करेंगे टीम को पुरुस्कृत

शहड़ोल(विपिन मिश्रा)। जिले में पुलिस अधीक्षक सत्येन्द्र शुक्ल के नेतृत्व में लगातार नशा कारोबारियों के खिलाफ कार्यवाही की जा रही है। पदभार ग्रहण के बाद से ही पुलिस अधीक्षक शहड़ोल के निर्देशन में जिले में लगातार नशीले पदार्थों की बिक्री करनें वालों से लेकर इसकी खेप लानें वालों के नेटवर्क का उजागर कर ध्वस्त किया जा रहा है।पुलिस अधीक्षक शहडोल सत्येन्द्र कुमार शुक्ल द्वारा अपने कार्यभार ग्रहण करने के बाद से सतत रूप से इस संबंध में प्राप्त हुई सूचनाओं के संदर्भ में इस विषय को बड़ी गंभीरता से संज्ञान में लिया गया। अपने सभी अधीनस्थ अधिकारियों एवं कर्मचारियों को नशे के विरूद्ध सख्त एवं व्यापक कार्यवाही करने के लिए निर्देश दिए। जिसके तहत बीते 04 माह में ही शहडोल जिले में नशे के विरूद्ध ताबड़तोड़ कार्यवाही की गई। जिले में लंबे समय से नशा तस्करी एवं व्यवसाय में अपने पैर जमाए हुए अपराधियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की गई है।नशीले पदार्थ बेचने वाले न केवल स्थानीय अपराधियों के खिलाफ पुलिस द्वारा कार्यवाही की गई बल्कि इस नेटवर्क के पूरी श्रंखला को ध्वस्त करने का प्रयास किया जा रहा है।

सोहागपुर थाना ने की कार्यवाही:
थाना सोहागपुर में सूचना प्राप्त हुई कि सतगुरू स्कूल के पास दीपक विश्वकर्मा एवं उसकी माँ राधा विश्वकर्मा अपने घर में मादक पदार्थ गांजा काफी मात्रा में बिक्री करने के उद्देश्य से रखा गया है।प्राप्त सूचना के आधार पर थाना सोहागपुर से पुलिस की टीम पूछताछ एवं कार्यवाही हेतु सतगुरू स्कूल पानी टंकी के पास रामानुज कॉलोनी में संदेही दीपक विश्वकर्मा पुत्र स्व. दीना विश्वकर्मा उम्र 25 वर्ष व राधा विश्वकर्मा पति स्व. दीना विश्वकर्मा उम्र 48 वर्ष के घर पहुंची। संदेहियों से पूछताछ उपरांत उनके घर की तलाशी लेने पर दीपक विश्वकर्मा के घर में से उसके द्वारा छिपाये गए स्थान से प्लास्टिक की बंधी बोरी में गांजा प्राप्त हुआ। राधा विश्वकर्मा की निशादेही पर भी उसके ही घर से प्लास्टिक की बोरी में गांजा प्राप्त हुआ। मां-बेटे के कब्जे से बरामद गंजे की कुल मात्रा 21 किलो पायी गई। जिसकी कीमत 2.5 लाख रूपये है। इतनी बड़ी मात्रा में गांजा के बारे में इन आरोपियों से पूछताछ किये जाने पर कोई वैधानिक कारण नहीं बताया गया। दोनों आरोपियों को गिरफ्तार करके बरामद गांजे के साथ थाना सोहागपुर में धारा 8/20 एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्यवाही की जा रही है।राधा विश्वकर्मा ने पूछताछ में बताया है कि उसका परिवार लम्बे समय से गांजे का व्यवसाय करता आ रहा है। राधा का पति दीना विश्वकर्मा कई वर्षों तक गांजा बेचता रहा है। लगभग 02 वर्ष पहले उसकी मृत्यु के बाद माँ बेटे गांजे के व्यवसाय में लग गए। वर्ष 2019 में भी दीपक विश्वकर्मा के विरूद्ध थाना सोहगपुर में गांजा बरामद किये जाने पर एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्यवाही की गई थी। इसके बावजूद उसके कत्यों में कोई परिवर्तन नहीं हुआ और लगातार वह गांजा बेचने के काम में लगा रहा। पुलिस को लम्बे समय से इनकी गतिविधियों की सूचना मिल रही थी। पुलिस द्वारा लगातार नजर रखते हुए पुड़ियों में गांजा सेवन करने वाले ग्राहकों को और छोटे व्यापारियों को गांज बेचने की स्थिति की तस्दीक हो रही थी। पुलिस बड़ी खेप के साथ आरोपियों को दबोचने की फिराक में लगी हुई थी। कल जब पुलिस को बड़ी मात्रा में गांजा इन आरोपियों के कब्जे में होने की सूचना मिली तो पुलिस द्वारा स्पष्ट कार्य योजना के तहत दबिश की कार्यवाही की गई।राधा विश्वकर्मा एवं दीपक विश्वकर्मा ने पृथ्ठताछ में बताया है कि वह बुढ़ार से गांजा खरीदते रहे हैं। ओम चौधरी की पतारसी शुरू कर दी गई है। इसी प्रकार नेटवर्क से पुलिस पहुंचने का प्रयास करेगी और शहडोल जिले में नशे के खेप पहुंच ही न सके इसके लिये जावेगा।

पुलिस अधीक्षक करेंगे पुरुस्कृत:
पुलिस अधीक्षक शहडोल ने इस टीम की विशेष से पुरस्कृत करने की घोषणा की है ताकि इनका मनोबल बढ़ता रहे और ऐसे है सतत कार्यवाही होती रहे।

बुढ़ार थाना को मिली तस्करों को पड़ने में सफलता:
थाना बुढ़ार अंतर्गत पुलिस चौकी केशवाही में लगभग 24 किली की बड़ी मात्रा में दो कारों में गंजा बरामद किया है। पुलिस को सूचना प्राप्त हुई थी कि जिला अनूपपुर गिरवा में अनुपपुर से गिरवा की ओर ग्राम रामपुर के दिगम्बर राठौर अपने साथी सुनील जायसवाल निवासी रामपुर रजन पटेल निवासी एवं उमेश पटेल निवासी पड़रिया एक सफेद रंग की स्कोडा कार क्रमांक सीजी 10 बी 428 में काफी मात्रा में गांजा लेकर आ रहा है। सुनील जयसवाल की कार के आगे मारुति कार व बुलेनो कार एमपी 65 सी 3115 को अजय साहू चलाते हुए पायलटिंग कर रहा है।

पुलिस द्वारा जैसे ही सूचना प्राप्त हुई तो पूरी सक्रियता दिखाते हुए संबंधित सड़क पर लगाकर घेराबंदी की गई। पुलिस को देखते ही पायलटिंग करता हुआ वाहन चालक काफी फुरती से सड़क से बोलेनो गाड़ी को नीचे उतारकर भाग खड़ा हुआ। पीछे आ रही स्कोडा कार देख डाईवर ने भी तेजी से गाड़ी यू-टर्न लेकर वापस करनी चाही लेकिन पुलिस ने काउंटर एम्बुश लगा रखा था जिससे यह गडी पकड़ ली गई। दोनों गाड़ियों एवं उनके सवारों के बारे में जांच-पड़ताल किये जाने पर पाया गया कि वाहन बोलेरो का वाहन चालक अजय साहू पिता कालीदास साहू उम्र 28 वर्ष निवासी कुरनिहा टोला रामपुर थाना अमलाई जिल शहडोल गाड़ी छोड़कर भाग गया है। स्कोडा में सुनील जयसवाल पिता अशोक जायसवाल उम्र 30 साल निवासी रामपुर, राजन उर्फ रजन पटेल पिता ददुल्ला पटेल उम्र 40 साल निवासी ग्राम पडरिया दिगम्बर सिंह राठौर पिता प्रीतम लाल राठौर उम्र 35 साल निवासी रामपुर पकड़े गए इस वाहन का एक और सवार उमेश पटेल पिता लोकनाथ पटेल उम्र 30 साल निवासी पडरिया चौकी केशवाही वाहन से उतरकर भाग गया।इस स्कोडा कार में 24 किलो गांजा बरामद हुआ। लगभग 3.60 लाख कीमती यह गांजा इन गांजा तस्करों द्वारा शहडोल जिले में खपाने के लिए लाया जा रहा था। तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर 24 किले गांजा के संबंध में धारा 8/20 एनडीपीएस एक्ट के तहत प्रकरण पंजीबद्ध करके व्यापक विवेचना की जा रही है। इस कार्यवाही में पुलिस चौकी केशवाही प्रभारी उप निरीक्षक अर्चना धुर्वे और उनकी टीम तथा थाना प्रमारी बुढ़ार महेन्द्र सिंह चौहान के नेतृत्व में थाना बुढ़ार की टीम को पुलिस अधीक्षक शहडोल ने पुरस्कृत करने की घोषणा की है। इस संबंध में ज्ञात हो कि विगत सप्ताह थाना सोहागपूर क्षेत्रांतर्गत बोलेरो वाहन में 11.4 किलोग्राम गांजे की खेप पकड़ी गई थी जो कि राजेश जैन से पूछताछ में पता चला था कि यह गांजा भी दिगम्बर राठौर एवं अजय साहू द्वारा ही उसे दिया गया था।